Intersting जानकारी:- Series #1 | How Dubai Gets Fresh Water | इन हिंदी:

Dubai Palm Island

साउदी अरब(Saudi Arabia) में तेल की बात तो अक्सर होती रहती है मगर अब पानी की बात ज्यादा जरूरी होगयी है | तेल के कारण सऊदी अमीर है लेकिन पानई की प्यास यहाँ लगातार बढ़ती जा रही है | September 2011 में एक माइनिंग (Mining) से जुड़े एक फर्म के उपप्रमुख (Deputy Chief) मोहम्मद हारी ने कहा था , की यहाँ सोना है पर पानी नहीं और सोने की तरह पानी भी महंगा है |

सऊदी तेल बेचकर बेशुमार कमाई तो कर रहा है लेकिन इस कमाई का बडा हिससा समुन्दर (Sea) के पानी को पीना लायक बनाने में लगता है | सऊदी में न तो कोई नदी है नहीं कोई झील ,कुँए भी है तो तेल के पानी के कुँए कब के सुख गए | 2011 में ही सऊदी के पानी और बिजली मंत्री (Water And Power Minister) ने कहा था की सऊदी में पानी की मांग (Demand) हर साल 7% बाद रही है , और अगले दशक में इसके लिए 133 Arab Dollar के निवेश की जरुरत पड़ेगी |

Saudi Arabia Conversion Core

Saline Water Conversion Core

सऊदी Arabia खारा पानी कन्वर्शन कोर (Saline Water Conversion Core) हर दिन 30.36 लाख क्यूबिक मीटर(Cubic Metre) समुन्दर के पानी को नमक से अलग करता है, और उसे इस्तेमाल करने लायक बनाता है | सऊदी अरब हर साल इस पर 800 M USD खरच करता है ,इसके ऊपर पानी का यातायात (Transport) का खरच भी बढ़ जाता है |

Dubai Water History

2015 में ही सऊदी ने पानी पर Tax बढ़ा दिया|सऊदी पानी पर Tax इसलिए भी बढ़ा रहा है की उसका बेहिसाब इस्तेमाल रोका जा सके| कई रिसर्चो का कहना है की सऊदी का भूमि का जल (Underground Water) अगले 12 सालो में पूरी तरह ख़तम हो जायेगा | सऊदी अरब के अरबी 📻अख़बार (Alwattan) के मुताबिक खाड़ी के देशो में प्रतिव्यक्ति पानी की खप्त सबसे ज्यादा है |

सऊदी अरब में प्रतिव्यक्ति एक दिन की पानी की खपत European (Euro) देशो से दुगनी है| सऊदी अरब में नदी या झील नहीं है | हज़ारो सालो से सऊदी के लोग पानी के लिए कुओं पर निर्भर रहे लेकिन बढ़ती आबादी के कारण जल का दोहन (Exploitation) बढ़ता गया और इसकी भरपाई प्राकृतिक रूप से नहीं हुई , धीरे -धीरे कुओं की गहराई भी बढ़ती गयी और वो वक्त भी आ गया जब सारे कुए सूख गए | सऊदी में हर साल DECEMBER,JANUARY में तूफ़ान के साथ साथ बारिश भी आती है लेकिन ये एक या दो दिन ही होती है | सऊदी में हमेशा से ही मीठे पानी की विकराल समस्या रही है ,सऊदी के साथ-साथ पुरे मद्य पूरव (Middle East) में पानी बहुत कीमती है| सऊदी ने इसी कारण से ही अपनी गेहूँ की खेती बंद करदी |

यहाँ के ज्यादा तर देश पानी की मांग को पूरा करने में खुद को अक्षम (Disabled) पा रहे है | विश्व बैंक (World Bank) के मुताबिक इन देशो में 2050 तक प्रत्येक व्यक्ति पानी की मात्रा आधी रह जाएगी| विश्व बैंक( World Bank) के मुताबिक 2050 तक UAE में मीठे पानी के स्त्रोत (Source) पूरी तरह ख़तम हो जायेंगे|

Decalination (अलवणीकरण)

सऊदी के पास समुन्दर के पानी से नमक को अलग कर एक विकल्प (Option) है , और इसी क्रिया (Process) को Desalination कहते है. दुनिया भर में यह तरीका लोक प्रिय हो रहा है, दुनिया भर में तकरीबन तकरीबन 150 देश इस क्रिया का इस्तेमाल कर रहे है | मगर वैज्ञानिको (Scientists) का कहना है की इस प्रक्रिया से समुंद्री पारिस्थितकी (Ecology) को नुक्सान पहुँच रहा है | सऊदी पिछले 50 सालो से इस क्रिया का इस्तेमाल कर रहा है और समुंदर के पानी से नमक अलग करके उसे इस्तेमाल करता है |

इंसान तेल के बिना तो जी सकता है लेकिन पानी के बिना नहीं इसलिए जितना हो सके पानी बचाये |

2 thoughts on “Intersting जानकारी:- Series #1 | How Dubai Gets Fresh Water | इन हिंदी:”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *